चाणक्य नीति- ऐसे 5 लोगों का भला करने पर आपको नुकसान ही होगा। AVOID THESE 5 PERSON TO HELP

Share:
चाणक्य नीति
हमारे बड़े- बुजुर्ग कहते है कि हमें दूसरों की सदैव भलाई करना चाहिए। अगर जीवन मे दूसरो की भलाई करने का अवसर मिले तो कभी भी ऐसे अवसर को नहीं छोड़ना चाहिए. बड़े-बुजुर्ग कहते है कि अगर आप लोगो की भलाई करेंगे तो आपके साथ भी हमेशा भला या अच्छा ही होगा.

चाणक्य नीति (CHANKYA NITI)-

चाणक्य नीति के अनुसार हमारे समाज या आसपास ऐसे लोग होते है जिनकी मदद या भलाई  नहीं करना चाहिए. ऐसे लोगों की भलाई या मदद करने से आपको ही नुकसान उठाना पड़ सकता है. इसलिये जितना संभव हो उतना ही ऐसे 5 लोगों से दूर रहना चाहिए.

1. मूर्ख-

चाणक्य के अनुसार मूर्ख स्त्री या पुरुष को कभी भी उपदेश या ज्ञान देने का कोशिश नही करना चाहिए. आप सोचेंगे कि ज्ञान देकर उनकी भलाई कर रहे है,लेकिन मूर्ख व्यक्ति को आपके ज्ञान से कोई लेना देना नहीं होता है. एक मूर्ख व्यक्ति को ज्ञान देने पर वह उल्टा उसपे तर्क- वितर्क करता है. जिससे आपका अमूल्य समय फालतू कार्यो में ही बर्बाद होता है. मूर्ख व्यक्ति के कुतर्क के कारण आपको मानसिक परेशानी भी हो सकता है. अतः ऐसे लोगों की भलाई या मदद करने से बचना चाहिए.


2. अकारण दुखी रहने वाले-

कुछ लोग हमेशा बिना किसी कारण के दुःखी रहते है. ऐसे लोग अपने पास उपलब्ध संसाधनों से संतोष  नहीं रखते और हमेशा भगवान को कोसते रहते है, साथ ही साथ अपने स्थिति का रोना रोते रहते है. ऐसे लोगों का साथ आपको भी दुःखी बना सकता है. प्रायः देखा गया है कि बिना कारण के दुःखी रहने वालेलोग दूसरों की सफलता या उन्नति से जलते है और दुःखी रहते है. ऐसे लोग खुद कुछ नहीं करते है और जीवन मे आगे बढ़ने वालो को देखकर जलते रहते है और अपने भाग्य को कोसते रहते है. अतः ऐसे व्यक्ति की भलाई करने का नहीं सोचना चाहिए.

3. दुष्ट स्त्री -

जो स्त्री चरित्रहीन,कर्कश, बुरे स्वभाव वाली हो तो उनका भरण-पोषण करने वाले पुरुष को कभी भी सुख प्राप्त नही होगा. ऐसे स्त्री को पुरूष के धन से मोह होता है. मौका मिलने पर आपके धन को हड़पने की पूरी कोशिश करते है. आपके धन के लिए आपको शारीरिक या मानसिक किसी भी प्रकार का नुकसान पहुँचा सकते है. एक सज्जन व्यक्ति अगर दुष्ट या चरित्रहीन स्त्री के संपर्क में रहेगा तो समाज और घर परिवार  में उनका मान-सम्मान कम होगा . अतः एक सज्जन व्यक्ति को किसी दुष्ट या चरित्रहीन स्त्री की भलाई करने के बारे में नहीं सोचना चाहिए.

4. अत्यधिक नशा करने वाले-

चाणक्य के अनुसार अत्यधिक नशा करने वाले व्यक्ति की कभी भी भलाई नही करना चाहिए.  समाज मे कुछ लोग होते है जो एक लिमिट में नशा करते है. लेकिन कुछ लोग लिमिट से बाहर नशा करते है जिसे समाज भी स्वीकार नहीं करता है. ऐसे लोगों का समाज मे कोई मान-मर्यादा नहीं रहता है. नशेड़ी लोगों का साथ आपके मान- सम्मान को नुकसान पहुचते है नशे में चूर व्यक्ति होश-हवास में नहीं रहता है और ऐसे लोगों  की मदद या भलाई करने पर कई बार आर्थिक और शारीरिक नुकसान उठाना भी पड़ता है, और अगर ऐसे नशेड़ी लोगो के साथ कुछ अनहोनी घटना घट जाये तो उसके जिम्मेदार आपको ठहराया जाता है.  इसलिए नशेड़ी लोगों से हमेशा दूर रहे .


5. बुरी आदतों में लिप्त-

जो लोग बुरी आदतों जैसे- चोरी, डकैती, लूट-पाट जैसे कामो में लिप्त रहते है ऐसे लोगों की कभी मदद नहीं करना चाहिए. ऐसे लोगों को समाज स्वीकार नहीं करता है. बुरे लोगों के संगत से लोग आपको भी बुरा समझने लगते है और शक के निगाहो से देखते है. एक प्रसिद्द कहावत है- "कोयले की दलाली से हाथ काला होता है" इसीप्रकार ऐसे लोगों के संपर्क में रहने से आपको भी उनके कामों का परिणाम भोगना पड़ सकता है, उनके बुरे कार्य के लिए आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है.
यह भी पढ़े-
चाणक्य नीति- ऐसे 5 लोगो से दोस्ती न करे.
नकारात्मक सोच से बचने के 5 अचूक उपाय

सुखी वैवाहिक जीवन का रहस्य 

चाणक्य के अनुसार भलाई करना बहुत बढ़िया आदत है और एक सज्जन को हमेशा भलाई करना चाहिए इससे समाज मे भाई-चारे की भावना बानी रहती है. लेकिन भलाई के बदले भलाई चाहते है तो ऊपर बताये 5 लोगों की कभी भी मदद या भलाई करने के बारे में नहीं सोचना चाहिए. इतिहास गवाह है ऐसे लोगों का साथ सदैव नुकसानदायक ही साबित हुआ है
.
आप लोगों को यह "चाणक्य नीति- ऐसे  5 लोगों का भला करने पर आपको नुकसान ही होगा। CHANKYA NITI -AVOID THESE 5 PERSON TO HELP "आपको कैसा लगा और आपका इसके बारे में क्या मत है कमेंट करके  जरूर बताइयेगा.
अगर यह पोस्ट आपको पसंद आया हो तो इसे Like करना और अपने दोस्तों के साथ share करना न भूले. और हमारे Facebook page को भी जरूर Like करे.

जीवन बदलने वाली लेख ईमेल पर मुफ्त में पाये

No comments