सच्ची प्रतियोगिता का फल । THE FRUIT OF TRUE COMPETITION

Share:
आज के प्रतियोगिता के दौर में हम सच्ची प्रतियोगिता (True  Competition) के मायने ही भूल गए. लोग सफल होने के लिए किसी भी हद तक जा सकते है.
sachchi pratiyogita ka phal hindi story
अधिकांश लोगो के अनुसार  प्रतियोगिता में ईमानदारी जैसे चीज फीकी और बेकार होती है. अगर आप भी उन लोगो में एक है जो ऐसा सोचते है तो थोड़ा सम्हल जाइये क्यूंकि ऐसा सोचकर आप खुद के मन में नकारात्मक चीजों के बीज बो रहे है. आज मैं आपसे ऐसे ही प्रतियोगिता का सच्चा मतलब समझने वाला एक प्रेणादायक कहानी (Inspirational Stories) शेयर कर रहा हूँ. 
दूसरों को गिरा कर खुद आगे निकलना आज की प्रतियोगिता बन गयी है. 

फसलों की प्रतियोगिता की कहानी (Inspirational Story of Crop Competition)

एक समय की बात  है महेश नाम का किसान रहता था. उसके गांव में हर वर्ष एक प्रतियोगिता का आयोजन होता था. महेश अपने खेतो में गेहूं की  फसल बोता  था. हर वर्ष होने वाले प्रतियोगिता में अच्छे किस्म के बढ़िया पैदावार करने वाले किसान को  पुरस्कार दिया जाता था. उस प्रतियोगिता में आसपास के अनेक गांव से किसान भी भाग लेते थे. कई वर्षो से लगातार  महेश ही  गेहूं के  बढ़िया पैदावार के लिए वह पुरस्कार जीत रहा था.



लोगो को  आश्चर्य होता की कैसे एक ही व्यक्ति हर वर्ष बढ़िया पैदावार के लिए पुरस्कार जीत जाता है. प्रतियोगिता  के संचालक   ने कौतुहल वश महेश के पास जाकर उसके बढ़िया पैदावार का रहस्य जानना चाहा. संचालक  को पता चला कि महेश खेतो के बुवाई के समय आसपास के किसानो के बढ़िया किस्म के बीज बाटते थे. संचालक ने महेश से पूछा कि जब आप जानते हो कि वो किसान भी प्रतियोगिता में भाग लेगा फिर भी आप उसे बढ़िया किस्म का बीज क्यों देते है.

महेश ने जवाब दिया - क्या में ऐसा करके गलत करता हूँ? संचालक ने कहा- हाँ अगर सामने वाला भी प्रतियोगिता में शामिल  हो रहा हो तो. महेश मुस्कुराते हुवे जवाब देते है- खेतो में जब हवा चलती है तो हवा के साथ एक खेत के परागकण दूसरे खेत में चले जाते है. यदि मेरे खेत के आस-पास  कम गुणवत्ता वाली गेहूं के फसल होगी तो उसके परागकण मेरे खेत तक जरूर आएगा और मेरे खेत के गेहूं कि गुणवत्ता कम हो जायेगा. इसलिए मैं आसपास के किसानो को अच्छी किस्म का बीज बाटता हूँ.  यही मेरे हर वर्ष पुरस्कार जीतने का रहस्य है.

हमारा मन  भी एक प्रकार का खेत है (Our Mind is also a kind of Farm)

यही सिद्धांत हमारे जीवन में लागू होता है.हमारे आस-पास के वातावरण का हम पर पूरा प्रभाव पड़ता है.  हमारे आस-पास Healthy  वातावरण रहने से जैसे हम Healthy   रहते है. उसीप्रकार बेहतर जीवन जीने के लिए जरुरी है कि हमारे आस-पास के रहने वाले लोगो का भी जीवन बेहतर हो. सिर्फ आपके विचार अच्छे होने से काफी नहीं होता है आपके साथ रहने वाले लोगो का भी विचार अच्छा होना चाहिए.
यह भी पढ़ना न भूले :- 
आपको यह आर्टिकल "सच्ची प्रतियोगिता का फल । THE FRUIT OF TRUE COMPETITION " आपको कैसा लगा और आपका इसके बारे में क्या मत है कमेंट करके जरूर बताइयेगा

अगर यह पोस्ट आपको पसंद आया हो तो इसे Like करना और अपने दोस्तों के साथ Share करना न भूले और ऐसे ही प्रेणादायक लेख ईमेल पर मुप्त में पाए. हमें Facebook Page पर भी Follow कर सकते है.

जीवन बदलने वाली लेख ईमेल पर मुफ्त में पाये

2 comments: