खुश रहने वाले लोगों की 7 आदतें । 7 HABITS OF HAPPY PEOPLE IN HINDI

Share:
हर कोई  अपनी जिंदगी में खुश  रहना चाहता है क्यूंकि खुश रहना हमारा जन्मजात स्वभाव है. आपने एक बच्चे को देखा होगा की वह कितना खुश रहता है. इसलिए बचपन के दिन हमारे जीवन के सबसे अच्छे दिन होते है. एक कहावत है-
जिंदगी का असली मजा बच्चे बने रहने में है, बड़े होने पर जिंदगी उलझ जाती है.  
khush rahne wale logo ki 7 aadate in hindi
खुश रहने वाले लोगों की 7  आदतें
कुछ लोग अपने जीवन में हर पल खुश रहते है. चाहे जीवन में दुःख आये है, सुख आये. क्या आप जानते है कि वो हमेशा खुश कैसे रह पाते है? . उनकी हर समय ख़ुशी का कारण है उनकी कुछ आदतें(Different Habit).  

खुश रहने वाले लोगों कि 7 आदतें (7 Habits of Happy People in Hindi)

आपको ऐसे लोग भी  दिखेंगे जो सफल होने के बाद भी जीवन में उदास रहते है वही कुछ लोग अपनी विशेष आदतों के कारण हर समय खुश रहने कि वजह खोज लेते है. इसका मुख्य कारण सोच और आदतों में अंतर होना है. 
आप कभी ये मान कर मत चले कि सफल होने पे ख़ुशी मिलती है. सफलता कि गारंटी ख़ुशी कि गारंटी नहीं है इसलिए जीवन में खुश रहना चाहते है तो खुश रहने वाले लोगों की 7  आदतों को अपनाये. 


Habit 1. खुश रहने वाले हमेशा अच्छाई  खोजते है-

हममें से अधिकांश  लोग ऐसे होते है जो हर समय किसी न किसी बात का  रोना रोते है. इसकी वजह है हमारा Negativity  को जल्दी  ग्रहण करना. हम बहुत जल्दी दूसरों में कमी निकालते  है. लेकिन खुश रहने वाले लोग हर समय हर चीज में अच्छाई खोजने की कोशिश करते है. उनकी यही कोशिश उनको खुश रहने की वजह देते है. अगर आप खुद से एक प्रश्न पूछे की यह व्यक्ति या यह चीज क्यों अच्छा है?-तो आपका मस्तिष्क आपको ढेर सारी अच्छाई  बता देगा. 
मान लो  किसी वजह से उनका  रिश्ता टूट जाता है तो वे दुःखी  होने के बजाय सोचते है कि  उसके  भाग्य में उससे बेहतर रिश्ता होगा इसलिए ऐसा हुआ.
यह भी पढ़े- -ओवरथिंकिग से कैसे बचे ?

Habit 2. दुसरो से उम्मीद नहीं रखना-

आज के समय में हमारे दुःख की सबसे बड़ी वजह यही है दुसरो से उम्मीद रखना. प्रायः हर कोई हर किसी से न जाने कितनी सारी उम्मीदे रखता है और कोई  उम्मीद पूरी न हुई तो फिर दुःखी होना स्वाभाविक हो जाता है. 
जैसे हम अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से उम्मीद करते है की जरुरत पड़ने पे हमको पैसे दे और वो किसी कारण वश न दे पाए तो हमें दुःख होता है.

Habit 3. माफ़ करना और माफ़ी मांगना जानते है-

हर किसी के जीवन में ऐसे कई मोड़ या पल आते है जिनमे हमें माफ़ करना या माफ़ी मांगने की जरुरत होती है. एक साधारण आदमी ऐसे समय में फालतू के ईगो (Ego) को अपने पास रखता है जिससे न तो वह माफ़ी मांग पाता है और न ही माफ़ कर पाता है. नतीजन बेवजह दुःखी रहता है. लेकिन खुश रहने वाले लोग माफ़ करना और माफ़ी मांगना भली-भांति जानते है. 
माफ़ करने  या माफ़ी मांगने से  उनका दिमाग को शांत रहता  है और बहुत सारी उलझनों से उनको  बहुत दूर रखता है और वह  बहुत खुश रहते है. 

Habit 4. दूसरों पर निर्भर ना रहना

ज्यादातर लोग छोटी सी छोटी बात के लिए दूसरों पर निर्भर रहते है. हर बात पे किसी पे निर्भर रहना आपको दुःखी होने के कई कारण देते रहते है. लेकिन जो लोग दूसरों पर निर्भर होने के बजाय Self -Depended होते है वो ज्यादा खुश होते है. 
उदाहरण के लिए आपको ऑफिस आने जाने के लिए अपने दोस्त पर निर्भर रहना पड़ता है और किसी कारण वश आपका दोस्त ना आये तो आपके दुखी होने की गारंटी बढ़ जाती है.

Habit 5. पसंद का काम करना-

खुश रहने के लिए पसंद का काम करना बहुत जरुरी है. आपको जो चीज अच्छी लगती है अगर वो चीज आप करेंगे तो आपके खुश रहने का ग्राफ बढ़ता ही जायेगा. अगर आप इसके उलटे बिना पसंद के काम करेंगे तो आपको छोटी बातों पे भी गुस्सा आएगा और दुखी रहना आपका स्वभाव बनते जायेगा. 
जैसे अगर आपको खाना बनाना पसंद  है और सेफ  का काम करेंगे तो आपको लोगों को खिलाने में बहुत आनंद आएगा और आपकी खुशी बढ़ती जाएगी.
यह भी पढ़े- जीवन में दुःख या परेशानी आये तो क्या करें

Habit 6. रिश्तो को महत्व देते है-

आजकल  लोग रिश्तो  को स्वार्थवश ही आगे लेकर चल रहे है इसीकारण रिश्तो में कडुवाहट आते जा  रही है जिसके कारण लोग जीवन में दुःखी रहने लगे है. खुश रहने वाला इंसान अपने रिश्तो को स्वार्थ से ऊपर रखता है. उनकी कोशिश होती है कि हर रिश्तो को बेहतर बनाये. 
इसके लिए वह छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखता है- जैसे बर्थडे विश करना, त्यौहारों में बधाई देना, कुछ अच्छा करने पर सच्ची तारीफ करना, हर छोटी-बड़ी ख़ुशी या दुःख में शामिल होना जैसी  बातों रिश्तो में मधुरता लाती है.  जैसा आप लोगों को देते है वैसा ही बदले में आपको मिलता है ढेर सारी खुशिया. 


Habit 7. पॉजिटिव थॉट को ही महत्व देना-

एक अध्ययन के अनुसार हमारे दिमाग में दिनभर में कम से कम 60000  से ज्यादा विचार आते है और उनमे से ज्यादातर विचार नेगेटिव होते है और अगर हम हर नेगेटिव थॉट को लेकर चलेंगे तो खुश रहना नामुमकिन हो जायेगा. 
इसलिए एक खुश रहने वाला व्यक्ति केवल Positive Thought  को ही सोचता है और नेगेटिव थॉट को ज्यादा देर तक रहने नहीं देता है, दिमाग में आने वाली हर विचार सही हो जरुरी नहीं है ऐसे में उस पर React  करते रहने से दुखी रहते है. नकारात्मक विचारो को सच मानने से Body में Blood Pressure  बढ़ जाता है और हमारे लिए Tense जैसी स्थिति निर्मित हो जाती है. लेकिन जब हम उसे नकार देते है तो हमारा Brain Relax   रहता है और हम Happy.

One more Special Quality - खुद जिम्मेदारी लेते है

एक अजीब आदत लोगों में होती है कि कुछ अच्छा हो तो उसका क्रेडिट खुद लेते है और बुरा हो जाये तो दूसरें को क्रेडिट देता है जो मुख्यतः हमें दुःखी बनाता है. 
हम अक्सर गलत होने पर खुद को जस्टीफ़ाइड (Justified) करने की कोशिश करने लग जाते है और इस दौरान न जाने कितनी बातों से खुद को दुःखी कर लेते है. एक खुश रहने वाला व्यक्ति हमेशा अपने काम की जिम्मेदारी लेता है. अगर कुछ गलत हो जाता है तो वह दूसरों को दोष देने के बजाय अपनी गलती मानता है और खुद को फालतू के तर्क और उलझनों  से बचा लेता है.
जैसे अगर वो  किसी एग्जाम में फ़ैल हो गए तो परिस्थिति को दोष देने बजाय खुद को जिम्मेदार मानते है कि तैयारी में कमी रह गयी.
यह भी पढ़े- 

                                 ------------****-----------
आपको यह आर्टिकल "खुश रहने वाले लोगों की 7  आदतें । 7 HABITS OF HAPPY PEOPLE IN HINDI" आपको कैसा लगा और आपका इसके बारे में क्या मत है कमेंट करके जरूर बताइयेगा 
अगर यह पोस्ट आपको पसंद आया हो तो इसे Like करना और अपने दोस्तों के साथ Share करना न भूले और ऐसे ही प्रेणादायक लेख ईमेल पर मुप्त में पाए. हमें Facebook Page पर भी Follow कर सकते है.

जीवन बदलने वाली लेख ईमेल पर मुफ्त में पाये

No comments